बॉलिवुड फिल्मों में सिर्फ शारीरिक शोषण दिखाया जाता है, सहमति से सेक्स...

बॉलिवुड फिल्मों में सिर्फ शारीरिक शोषण दिखाया जाता है, सहमति से सेक्स कभी नहीं: जोया अख्तर

43
0
SHARE

जोया अख्तर ने हाल ही में एक कार्यक्रम के दौरान हिन्दी सिनेमा में सेक्स व महिलाओं के शारीरिक शोषण के चित्रण को लेकर बात की। उन्होंने कहा कि इसे बदलने की जरूरत है।

Loading...

निजी जीवन से लेकर पर्दे पर हटकर विषय लाने वाली फिल्ममेकर जोया अख्तर ने हाल ही में बॉलिवुड फिल्मों में सेक्स व महिलाओं के शारीरिक शोषण के चित्रण को लेकर बात की। उन्होंने कहा कि हिन्दी सिनेमा में सेक्स के चित्रण में दिक्कतें रही हैं जहां आपसी सहमति से बने यौन संबंध की बजाए ज्यादातर ध्यान शारीरिक शोषण, बलात्कार एवं उत्पीड़न पर दिया जाता है।

जोया ने कहा कि जब छोटी उम्र में लोग इस तरह का कॉन्टेंट देखते हैं तो इसका उन पर असर बाद में दिखाई देता है। उन्होंने ‘विमिन शेपिंग द नैरेटिव इन मीडिया ऐंड एंटरटेनमेंट’ विषय पर रखे गए एक सत्र के दौरान कहा, ‘मैं जब बड़ी हो रही थी तब यह महसूस किया कि मैंने हिन्दी फिल्मों में बस यौन शोषण देखा है। यह बहुत अजीब था क्योंकि हमे फिल्मों में बलात्कार के दृश्य, शोषण एवं उत्पीड़न देखने दिया जाता था लेकिन हमें सहमति से बने संबंध से जुड़े सीन्स देखने नहीं दिए जाते थे।’

जोया ने आगे कहा कि इस सब का लोगों के दिमाग पर बहुत असर पड़ता है। ‘इसका हमारी मानसिकता पर असर होना लाजमी है क्योंकि उन्होंने पर्दे पर सहज स्पर्श और किसिंग करते नहीं देखा होता। आप लोगों को प्यार करते हुए और वह अपने साथ कैसा बर्ताव चाहते हैं, यह पर्दे पर नहीं देख पाते।’

फिल्ममेकर ने आगे कहा कि इस तरह के सीन्स समाज में गलत धारणा को जन्म और बढ़ावा देते हैं। ‘आप पर्दे पर दिखा रहे हैं कि महिलाएं तो हमेशा न ही कहेंगी इसलिए आप बस उन पर टूट पड़ें। जब आप बच्चे होते हैं, आप इस पर ध्यान नहीं देते हैं लेकिन बड़े होने पर आपको महसूस होता है कि यह अजीब है और इसे बदलना चाहिए।’ जोया ने कहा कि वह जो व्यक्ति बन पाई हैं वह उनके जीवन में मौजूद मजबूत महिलाओं ही नहीं बल्कि पुरुषों की वजह से भी है।

Loading...

LEAVE A REPLY